10 अक्तूबर 2014
भारत में बैंकिंग के नए युग का सूत्रपात

भारतीय बैंकिंग प्रणाली वर्तमान में कुछ असामान्य संरचनात्मक बदलावों से गुजर रही है और स्वाभाविक रूप से जिस एक की चर्चा फिजां में ज्यादा गूंज रही है उसका नाम 'विभेदी बैंक' है। भारतीय रिजर्व बैंक के गवर्नर रघुराम राजन इस व्यावहारिक विचार के समर्थक बताये जाते हैं।

30 सितम्बर 2014
कर प्रणाली सुधार में चाहिए रफ्तार

भारत में आम तौर पर कर कानूनों, कर प्रशासन और लेखाकारों की भूमिका को संशय की नजरों से देखा जाता रहा है। इसकी मुख्य वजह इस क्षेत्र में कारगर सुधारों के लिए प्रोत्साहनों की कमी रही है। इस देश में कर प्रणाली एक जटिल मसला रहा है, पर अब चूंकि कर प्रणाली को सुधारों के अगले चरण में प्रवेश करना है इसलिए सरकार को इसे सरल तथा सबके लिए उपयोगी बनाने के लिए इससे जुड़े सभी संबंधित पक्षों को अपने दायरे में शामिल करना होगा।

8 सितम्बर 2014
ब्रिक्स बैंक का लक्ष्य समानता हासिल करना, वैश्विक वित्तीय संस्थानों को चुनौती देना नहीं

ब्रिक्स बैंक के गठन के पीछे उद्वेश्य दीर्घकालिक परियोजनाओं को राशि तथा जोखिम से निपटने की पूंजी मुहैया कराना है। इसका लक्ष्य आईएमएफ और विश्व बैंक जैसे मौजूदा बहुस्तरीय वित्तीय संस्थानों को चुनौती देना नहीं है। भारतीय रिजर्व बैंक के गवर्नर रघुराम राजन नेे पिछले दिनों शिकागो में शिकागो कौंसिल ऑन ग्लोबल अफेयर्स द्वारा आयोजित एक समारोह के दौरान अपने भाषण में यह बात कही।

23 सितम्बर 2014
पंचायतों को शामिल किए बगैर वास्तविक डिजिटल इंडिया मुमकिन नहीं

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का डिजिटल इ्रंडिया का विजन पंचायतों को शामिल किए बगैर साकार नहीं होगा। यह मानना है सरकार के एक वरिष्ठ अधिकारी का।